Blog Archives

झील

एक झील है यहीं पास में

तेरी आँखों से गहरी और मेरे अरमानो से ज्यादा थकी हुई

किनारे उसके टहलने चला जाता हूँ कभी

वो जो गाना था हम साथ में गुनगुनाते थे

पत्थर बाँध कर उसी झील में फेंक आया हु|

 

यूँ  घबरा मत, वहां हो महफूज़ है|

झील के ताल में धरा है|

पापा के स्कूटर, लकड़ी-गारे के पुराने घर, दादी की कहानियो, नाना के पेड़ो, माँ के गुर्दे और दोस्तों की साइकिल से निकली हवा के साथ|

 

वैसे तो गोता भी मैं ठीक-ठाक लगा लेता हूँ

पर इस झील में कम ही लगता हूँ|

अन्दर जाने के ख्याल से ही सांस रुक सी जाती है|

 

लेकिन आज बात कुछ अलग सी हो गयी है|

अब तू आ ही  गयी है, न चाहते हुए गोता तो मैं लगाऊंगा ही

 

पता नहीं फिर कब बदन सूखेगा?

पता नहीं कब मैं उबर पाउँगा?IMG_4772.JPG

 

Advertisements
%d bloggers like this: