झील

एक झील है यहीं पास में

तेरी आँखों से गहरी और मेरे अरमानो से ज्यादा थकी हुई

किनारे उसके टहलने चला जाता हूँ कभी

वो जो गाना था हम साथ में गुनगुनाते थे

पत्थर बाँध कर उसी झील में फेंक आया हु|

 

यूँ  घबरा मत, वहां हो महफूज़ है|

झील के ताल में धरा है|

पापा के स्कूटर, लकड़ी-गारे के पुराने घर, दादी की कहानियो, नाना के पेड़ो, माँ के गुर्दे और दोस्तों की साइकिल से निकली हवा के साथ|

 

वैसे तो गोता भी मैं ठीक-ठाक लगा लेता हूँ

पर इस झील में कम ही लगता हूँ|

अन्दर जाने के ख्याल से ही सांस रुक सी जाती है|

 

लेकिन आज बात कुछ अलग सी हो गयी है|

अब तू आ ही  गयी है, न चाहते हुए गोता तो मैं लगाऊंगा ही

 

पता नहीं फिर कब बदन सूखेगा?

पता नहीं कब मैं उबर पाउँगा?IMG_4772.JPG

 

Advertisements

About Rohan Kanungo

Suffering from a disorder that leads to a constant mental escape to other universes and create stories, images and what-not in my mind. I love making friends and catching up with them. Travelling is something which I like a lot but am not able to do much, so I do the next best thing - Reading. I love looking through the window in the nothingness. :) I love my parents, probably the coolest set of individual to get together on the face of the planet.

Posted on August 8, 2016, in कभी कभी कवि, Uncategorized and tagged , , , , , , , , , , , , , . Bookmark the permalink. Leave a comment.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: